अपना विधाता मैं हूँ ..I Am Own Creator..

दोस्तों , आज बात करेंगे उस ऊपर वाले कि….कहते हैं ऊपर वाले अर्थात ईश्वर ने दुनिया बनायी हैहम सब उसकी कृतिया मात्र हैंहम सबके भाग्य और कर्म उसने FIX कर दिए हैंइस दुनिया में सब कुछ SCRIPTED हैजो भाग्य में लिखा होगा वही होगाजिनको ऊपर वाले ने धनी ,अमीर बनना लिखा है वही अमीर बनेगा ….जिनको गरीब बनाया है वह गरीब ही रहेंगे ….किसी पर भी अपना वश नहीं है ….जैसा उसने लिखा है वैसे ही सब कुछ घटेगा     

दोस्तों, आपको क्या लगता हैक्या यही सच हैहम कुछ भी नहीं कर सकते अपना भाग्य बदलने के लिए ….जिसके भाग्य को  बदलना लिखा है बस वही बदल पायेगाबात कितनी  सच्ची है ये तो वो ऊपर वाला ही जानेपरन्तु आज एक गेम खेलते हैं ….

आज आइये आपको एक दिन के लिए ईश्वर बनाते है आपको बस इतना करना है कि एक प्यारी सी दुनिया बनानी है अपने लिए ..

बिलकुल वैसा ही जैसी  हमारी दुनिया है …(.मैंने आपके लिए Raw Material  रख दिया है इस्तेमाल कीजिये )

आइये बनाना शुरू करते है ..

.पहले एक बड़ी सी जगह जहाँ हमारे बनाये गए जीव जंतु इंसान रहेंगेएक प्यारी सी पृथ्वी

ओके अब तैयार है ….

पृथ्वी पर रहने वाले लाखो करोडो प्रकार कि वनस्पतियां …(भाई श्वास तो लेना है )..

भोजन भी करना है ..पानी बना लेते हैंआकाश बना लिया है   बादल भी तैयार है ….नदिया बना ली है आलरेडीझरने बना लिये ..

जंगलथोडा बाकी है ..लो  ये भी बना लिया …. जाने अभी क्या बनाना है

थोडा ब्रेक ले लेते हैं …………………………………………………….

ब्रेक के बाद

 

अब लगभग सब कुछ तैयार है बस अपनी सबसे प्यारी कृति इंसान बनाना बाकी है

आदमी औरत …..नहींसॉरी

बहुत  सारी छोटी बेबी गर्ल ….ढेर सारे बेबी बॉय ….Wow कितने प्यारे हैं

(थोडा हटके )—-सोचना पड़ेगा ये बच्चे जब बड़े होंगे तो क्या करेंगेकिस तरह करेंगे ..

किस वक़्त पे क्या करेंगे ..वक़्त क्या होगा ..

कैसी जिंदगी होगी इनकीकब तक इनसे खेलना है  ..फिर क्या करेंगे इनका …????

 चलो सब फिक्स कर देतें है …. साल बाद ये ऐसा करेगाफिर ऐसा करेगा ….फिर ऐसा करेगाफिर ऐसा करेगा के फिक्स का फिक्सतीसरे का फिक्स ……..हजारवें का फिक्स…..लाखवें का फिक्स….( थक गया यारक्या फिक्स करूँ और कितनो काटाइम ही नहीं मिल पा रहा है कि देखूं  पहला ,दूसरा क्या कर रहे हैं ….बोरिंग लाइफ हो गयी मेरी )

दोस्तों बहुत ही बोरिंग लग रहा होगा आप को भी ….आईडिया आया है अभी….क्यूँ इनकी लाइफ का टाइम फिक्स कर देता हु (क्यूंकि पुराने खिलोने बहुत जगह घेर रहे हैं और अब बोरिंग हो गए हैं )…

चलो फिर से करता हु

पहले का १०० सालफिक्सदूसरे का ८५ साल फिक्स….अब ठीक है ….एक काम और करता हुइनको खुद करने को छोड़ देता हु और देखता हु क्या ये करते हैं ….समय इनका फिक्स कर दिया हैफला टाइम में ये खुद क्या करते है ..बड़ा मजा आएगा देखने में..(.क्यों   आपको भी आएगा है ?)

अब तो बस cctv  से इनपे नजर रखनी होगीये क्या कर पाते है खुद सेकोई  बैरियर   नहीं  ….

हाहा बहुत मजा आएगा ….अब तो बिलकुल बोरिंग नहीं है ये सब ….

मतलब अब खुद कर्म करो  ….खुद का भाग्य बनाओखुद जैसा चाहो वैसा करोजितना चाहो उतना कमाओ ..

सब तुम पर छोड़ दिया …..लो अब करोस्टार्ट….…. गो .

* अब आपसे मैं पूछता हु क्या उस ऊपर वाले ईश्वर के पास तुम्हारे जितना भी बुद्धि नहीं है ? क्या जब तुम नहीं चाहते हो बोरिंग दुनिया बनाना तो क्या उसने वैसा किया होगा ?क्या सब कुछ फिक्स करके मजा आएगा ?

 

मुझे मालूम है आप कहोगेनहीं ”    …

ईश्वर तो हमसे ज्यादा बुद्धिमान हैसर्वशक्तिमान हैयही है आपका Answer ..तो निकलो घर से भाग्य का रोना बंद करो

उठो ..जागोऔर बनालो अपना भाग्य  अपने हाथोखुद अपना भाग्य लिखोगे तो अच्छा ही लिखोगे …. अमीर बनना है मजे कि जिंदगी जीना है …..नाम कमाना है आपको ?

 

फिर दुबारा उस ऊपर वाले को दोष मत देना ….Enjoy your Success

Santosh Pandey

www.santoshpandey.in

Please generate and paste your ad code here. If left empty, the ad location will be highlighted on your blog pages with a reminder to enter your code.

 

Announcement List
1) 5 Steps for college students 2)what we lost today Next comming soon ...........

4 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

All original content on these pages is fingerprinted and certified by Digiprove