कैसे शुरू करें अपना व्यवसाय : पार्टनरशिप फर्म

दोस्तों ,

बहुत से दोस्त जानना चाहतें हैं की किस तरह से अपना बिज़नेस स्टार्ट करें …तो दोस्तों आइये आपको इस पोस्ट में ये बताता हूँ की किस तरह अपना बिज़नेस शुरू करें ..यदि आपने सोच लिया है की क्या करना है ,क्या बिज़नेस स्टार्ट करना है तो आपको अगला कदम क्या लेना है आइये जानें….
बिज़नेस को मूर्त रूप देने के लिए सर्वप्रथम आपको एक नाम देना होगा ..unique और सिंपल ..जिसको सुनते ही पता लग जाए की आप करना क्या चाहते हैं ….
आशा है आपने नाम सोच लिया होगा ….
अब दूसरा कदम होगा इस नाम को अपने लिए रजिस्टर करना ….
यह depend करता है की आप बिज़नेस कैसे करना चाहते हैं …..
जैसे – स्वयं अर्थात Proprietorship
स्वयं तथा अन्य भी – १)पार्टनरशिप
२) प्राइवेट लिमिटेड
३) पब्लिक लिमिटेड .

भारत में Proprietorship का रजिट्रेशन जरुरी नहीं किन्तु अच्छा होगा की आप रजिस्टर करावें और टैक्स payee बनें.
संक्षेप में आज इस पोस्ट में पार्टनरशिप फर्म के रजिस्ट्रेशन के बारे में बताऊंगा …
पार्टनरशिप फर्म के लिए आपके स्वयं के अलावा एक अन्य व्यक्ति (minimum) होना चाहिए यह कोई भी हो सकता है आपका दोस्त आपकी वाइफ ,आपके परिवार से कोई भी माता, पिता, भाई, बेटा, बेटी या अन्य या एक सामान goal वाला व्यक्ति या फर्म .

आशा है आपने खूब सोच समझ कर अपना पार्टनर सोच लिया होगा ….

अब आपको “पार्टनरशिप डीड” तैयार करना होगा आपको सबसे पहले किसी अच्छे वकील से संपर्क करना होगा .यह डीड १००० रूपये के स्टाम्प पेपर पर बनता है ..नजदीकी स्टाम्प पेपर विक्रेता से १००० रूपये का तथा एक ५० रूपये (शपथ पत्र के लिए )का स्टाम्प पेपर खरीदें .१० रूपये अतिरिक्त देने पर आपको मिल जायेगा .पार्टनरशिप डीड बनवाने का खर्च लगभग १५०० रूपये आएगा .परन्तु यह फीस आपके वकील पर भी निर्भर करता है .ये ही भारतीय व्यवस्था है .
इसे नोटरी से सत्यापित करा लेवें.
एक बार डीड बन जाने के बाद सबसे पहले PAN के लिए अप्लाई कीजिये .इसमें १०६ रूपये फीस देना पड़ता है ऑनलाइन फॉर्म भी भर सकतें हैं किन्तु सबसे अच्छा है किसी एजेंट से संपर्क कर लेवें ….वह आपसे २५०-३०० रूपये लेगा परन्तु आपका कार्य आसानी से हो जायेगा ….
“यही विडम्बना है भारतीय व्यवस्था में ..”AGENT ” बहुत काम का आदमी होता है आपसे पैसा लेकर वह आपका काम चुटकियों में करा देता है जिससे आपको सरकारी कार्यालयों की दौड़ , समय दोनों की बचत होती है वरना आप स्वयं वह काम हफ़्तों या महीनो कभी कभी सालों में भी नहीं करा सकते अतः सिस्टम के इस व्यवस्था का लाभ अवश्य उठायें ”
PAN कार्ड आपके दिए गए पते पर १५ दिनों में पहुंच जायेगा परन्तु आप कूरियर बॉय के संपर्क में रहें क्युकि वर्तमान में यह आपको स्वयं कूरियर ऑफिस जाकर लेना होगा अन्यथा वापस कर दिया जाता है अड्रेस नहीं मिला यह लिख कर ….
इंटरनेट से पहले ही आप pan नंबर जान सकते है NSDL की साइट पर acknowledgement नंबर द्वारा .यह प्रिंट करा लें
आपने एफिडेविट बनाने के लिए ५० रूपये का स्टाम्प ख़रीदा था उस पर आप एफिडेविट बनवा लेवें ..इसका फार्मेट आपको TIN नंबर दिलाने वाले एजेंट से मिल जायेगा …..
अब आप रजिस्ट्रेशन करने के लिए तैयार हो जाइये …….

आप नीचे दिए हुए पेपर्स ले कर किसी भी नजदीकी सेल्स टैक्स वकील या एजेंट के पास जाएँ ….
१)पार्टनरशिप डीड की फोटोकापी
२)pan कार्ड को फोटो कॉपी
३)पार्टनर्स के ID और अड्रेस प्रूफ की फोटो कॉपी जैसे आधार कार्ड ,वोटर id , इलेक्ट्रिसिटी बिल इत्यादि
४)पार्टनर्स के दो -दो फोटोग्राफ
५)एफिडेविट
६) किसी सामान का क्रय बिल
७) दो TIN नंबर धारियों से उनके लेटरहेड पर आपका पहचान
आप अपने एजेंट से यह बताये की किस तरह का बिज़नेस आप करना चाहते हैं वह आपको सुझाव देगा की कौन से रजिस्ट्रेशन आपको कराने होंगे ….

अब आप इन्तजार कीजिये या कोई अन्य कार्य कर लीजिये //आपको २ से तीन दिन में TIN नंबर मिल जायेगा ..
इस प्रक्रिया में ३५००-४००० रूपये का खर्च आएगा .
सर्विस टैक्स के लिए २५००-३००० रूपये का खर्च आएगा
CST के लिए १००० -१५०० रूपये का खर्च आएगा …
TIN नंबर प्राप्त होते ही नजदीकी सरकारी बैंक में करंट अकाउंट (चालू खाता) खोलने के लिए आवेदन कर दें ..५००० -१०००० के मिनिमम बैलेंस पर खाता खुल जायेगा ..चेकबुक के लिए अप्लाई करें.. स्टेटमेंट प्रिंट करा के रख लेवें
इसी बीच एक गोल तथा एक पार्टनर की मुहर बनवा लेवें ….
लोकल अथॉरिटी में जाकर जैसे निगम में जाकर अन्य किसी रजिस्ट्रेशन की आवश्यकता हो तो करा लेवें ..अपने एजेंट से पूछे ….जैसे -गुमास्ता इत्यादि

Proprietorship में डीड नहीं बनती अतः आप स्वयं के पेपर्स और खाता नंबर ले जाकर एजेंट को दें …

अब आपको प्रिंटर के पास जाना होगा …
१) लेटरहेड डिज़ाइन व् प्रिंट करा लेवें
२)बिल बुक डिज़ाइन व् प्रिंट करा लेवें
३)विजिटिंग कार्ड डिज़ाइन व् प्रिंट करा लेवें
४)पेमेंट वाउचर डिज़ाइन व् प्रिंट करा लेवें
५)फ्लेक्स व् पम्पलेट डिज़ाइन व् प्रिंट करा लेवें
६) अखबारों और लोकल न्यूज़ में एड दीजिये ….

बस आप तैयार हैं आपके खुद के बॉस बनने का लिए …
आज बस इतना ही ..अगले किसी पोस्ट में बताऊंगा प्राइवेट लिमिटेड और पब्लिक लिमिटेड के बारे में ….इन्तजार कीजिये

और हाँ ..डोमेन name अवश्य रजिस्टर करें अपनी वेबसाइट के लिए …..

तो एन्जॉय योर सक्सेस .

आशा है इस पोस्ट से मेरे युवा साथियों को अवश्य लाभ होगा अपने विचार मुझे जरूर लिखें

santosh

Santosh Pandey