Special Attensions

 

आज की बात

 

जो सदा प्रसन्न रहता है उसके अंदर आलस्य नहीं हो सकता I आलस्य सबसे बड़ा दुर्गुण है I
मनोविकारों पर विजय प्राप्त करना ही आत्मा की सच्ची स्वतंत्रता है I
दूसरों को ख़ुशी देना सर्वोत्तम दान है I
व्यर्थ कार्य जीवन को थका देता है ,रचनात्मक कार्य सुख और तेजश्विता बढ़ा देता है I
जीवन के माधुर्य का रस लेने के लिए हमे बीती बातों को भुला देने की शक्ति अवश्य धारण करनी है I

 जो प्रसन्न रहते हैं उनके मन में कभी आलस्य नहीं आता . आलस्य एक बहुत बड़ा विकार है .
सन्तुष्टता व ख़ुशी साथ साथ रहते है इन गुणों से दूसरे आपकी ओर स्वतः आकर्षित होंगें .
यदि किसी भूल के कारण कल का दिन दुःख में बीता तो उसे याद कर आज का दिन व्यर्थ न गवाइए
हर्षितमुखता चेहरे का सच्चा सौंदर्य है चिड़चिड़े स्वभाव का व्यक्ति वास्तव में कुरूप है
जीवन एक नाटक है यदि इस कथानक को समझ लें तो सदैव प्रसन्न रह सकते हैं

सभी परिस्थितियों में संतुलन बनाये रखना प्रसन्नता की चाभी है

कभी -२ आपकी एक मुस्कान मरुस्थल में जल की बूँद जैसी लाभदायक सिद्ध हो सकती है
यदि मैं एक क्षण खुश रहता हूँ तो इसमें मेरे अगले क्षण में भी खुश होने की सम्भावना बढ़ जाती है
दुखो से भरी इस दुनिया में वास्तविक संपत्ति धन नहीं सन्तुष्टता है
ईमानदार व् सच्चे दिल वाला व्यक्ति स्वयं को सदा हल्का व तनाव मुक्त अनुभव करता है
अपनी इन्द्रियों पर सम्पूर्ण नियंत्रण ही सच्ची विजय है
अपने दुखो को भूलने के लिए परमात्मा को याद करो
विकट समस्याओं का आसान हल ढूढ़ निकलना सबसे मुश्किल काम है
यदि समस्याएं आने पर आप घबरा जाते हैं तो इससे आपके दिमाग का संतुलन बिगड़ जायेगा

mail me :

info@santoshpandey.in

Dear Advertisers ,

You may Advertise here….absolutely free!

Send your Advertisement links……..Hurry Up Limited Offer..

Please generate and paste your ad code here. If left empty, the ad location will be highlighted on your blog pages with a reminder to enter your code.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *