आइये वक़्त को पीछे मुड़ कर देंखे

दोस्तों .ये कहानी आपने पहले भी पढ़ी है अब वक़्त है आपके रिप्लाई देने का ….एक बार फिर पढ़िए और आपने किये हुए वादों के अनुसार मुझे कमेंट बॉक्स या मेल के माध्यम से बताइये आपने इतने दिनों में क्या खोया क्या पाया ….. दोस्तों आपके विचार मेरे लिए मेरे पोस्ट से ज्यादा मायने रखते हैं .. दोस्तों , आइये आज एक कहानी से रुबरु होते है , जब ये कहानी मैंने पहली बार पढ़ा उसी वक्त ये ख्याल आया कि ये आप के लिए ही है ..क्यूँ न आप को सुनाऊ….बात सर्द जनवरी कि है  स्थान अमेरिका के वाशिंगटन शहर का एक मेट्रो स्टेशन…. जहाँ एक व्यक्ति ने एक घंटा वायलिन बजाया और देखा कि लगभग १०००  लोग इस दौरान वहाँ से गुजरे …सुबह का वक़्त होने के नाते अधिकतर लोग अपने काम पर जा रहे थे जब उस व्यक्ति ने वायलिन बजाना शुरू किया उसके तीन मिनट बाद एक बुजुर्ग का ध्यान उस पर गया वह कुछ देर वहाँ रुका और चला गया ….४ मिनट  बाद उस व्यक्ति के पास एक महिला रुकी और एक सिक्का उसकी टोपी में डाला और चली गयी … ८ मिनट बाद एक युवक रुका और थोड़ी देर तक सुनने के बाद वो भी चला गया …. १० मिनट बाद एक बच्चा वहाँ रुक गया परन्तु उसकी माँ उसके घसीटते हुए ले गयी …कई बच्चो ने ऐसा किया हर बार उनके अभिभावक उनको ले गए ४५ मिनट होने के बाद भी वह बजाता रहा ..और इस बीच कुल ६

Read more

Change yourself, not the world :खुद को बदलो दुनिया नहीं

दोस्तों , आज आपके लिए एक छोटी सी स्टोरी लाया हूँ , इस कहानी को ध्यान से पढ़िए और ये सच मानिये कि एक छोटी सी सलाह आपकी जिंदगी बदल सकती है … इसी आशा के साथ आइये शुरू करें …. एक राजा था जो एक धनी एवं विकसित राज्य पर राज करता था …एक दिन वह राज्य के सबसे सुदूर इलाके कि सैर के लिए गया .. जब वह अपने राजमहल वापस लौटा तो बहुत ही थक चूका था

Read more
All original content on these pages is fingerprinted and certified by Digiprove