Corona Virus Or Covid-19 : भारत में कोरोना वायरस से बचने के उपाय : जनता कर्फ्यू

Corona Virus Or Covid-19

दोस्तों,एक आम स्टूडेंट की कहानीCorona virus Update : corona symptoms : Corona Tips : covid-19 in indiaएक आम स्टूडेंट की कहानीCorona virus Update : corona symptoms : Corona Tips : covid-19 in india

चीन के वुहान से शुरू हुआ कोरोना वायरस (Corona virus disease – COVID-19) अब तक 170 से ज्यादा देशों में पहुंच गया है. इसके संक्रमण से मरने वाले लोगों की संख्या 13,050 हो गई है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने इसे महामारी घोषित कर दिया है.

विश्वसनीय स्त्रोतों से कोरोना वायरस के बारे में जानकारी प्राप्त करे भ्रमित न हो .. इसमें स्थानीय स्वास्थ्य सेवा . WHO , भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय इत्यादि के साईट का सहारा ले |

प्रधान मंत्री मोदी जी और भारत सरकार के सभी अंग इस महामारी से जूझने के लिए तमाम कोशिशे कर रहे हैं सभी जरुरी कदम उठाये जा रहे हैं , दोस्तों आज का “जनता कर्फ्यू ” इतिहास में पहली बार इतने बड़े पैमाने पर सफल हुआ हैं यह निश्चित ही कोरोना के चैन रिएक्शन को तोड़ने में सहायक होगा । भारतीय जनता सबसे ज्यादा प्रभावित हो सकती थी परन्तु इस सेल्फ क्वारंटाइन की वजह से अपने आप को ज्यादा सेफ रखने में कामयाब हो रही हैं । जल्द ही हम इस महामारी पर विजय प्राप्त कर लेंगे ऐसी आशा हैं । दोस्तों हमको सिर्फ इतना करना हैं की सरकार और विशेषज्ञ जो भी सुझाव दे रहे हैं उनका कामयाबी के साथ पालन करें । अफवाहों पर बिलकुल ध्यान न दें ।

 

कोरोन वायरस की अधिक जानकारी के लिए आधिकारी साईट

 

 

  •    CORONAVIRUS INFORMATION – INDIA

MINISTRY OF HEALTH AND FAMILY WELFARE GOVT. OF INDIA                                mohfw.govt.in

 

  • CORONAVIRUS ADVISORY INFORMATION 

               WORLD HEALTH ORGANIZATION                                                                  who.int/emergencies

 

  •  CORONAVIRUS Q &A 

      WORLD HEALTH ORGANIZATION                                                                            who.inte/news-room

 

  • CORONAVIRUS CONDITION OVERVIEW 

               WORLD HEALTH ORGANIZATION                                                                  who.inte/health-topics

 

 

 

 

अपने हाथों को कब धोंये(when do we wash hand)? –

  • खाँसने या छिकने के तुरन्त बाद (after coughing or sneezing)
  • खाना बनाने से पहले तथा बाद (before and after preparing food)
  • खाना खाने से पहले (before eating food)
  • शौचालय से आने के बाद (after toilet use)
  • हाथ के गन्दे हो जाने पर(when hand are visible dirty)
  • पशु को छूने के बाद(after touching animal)

कब और कैसे मास्क का उपयोग करे(when and how use mask)? –

  • जब आप किसी संदिग्ध संक्रमित व्यक्ति की देखभाल कर रहे हो तब मास्क पहने
  • अगर आपको खांसी या छींक आ रही हो तब मास्क पहने
  • जब आप किसी भीड़-भाड़ वाले स्थान पर जाये तब मास्क पहने
  • चहरे पर मास्क पहनने से पहले हाथ को जेल या साबुन से धोयें
  • मास्क से मुह और नाक को इस प्रकार ढके की चेहरे और मास्क के बीच अंतर न हो
  • उपयोग करते समय मास्क को छूने से बचे

दुनिया भर की सरकारें कोरोना वायरस को लेकर लोगों को जागरूक करने पर ध्यान दे रही हैं. जानकारों का कहना है इसके संक्रमण को फैलने से रोककर ही इसे काबू में किया जा सकता है. इसके लक्षणों को पहचानकर ही कोरोना वायरस की बेहतर तरीके से रोकथाम की जा सकती है.

क्या है कोरोना वायरस?

कोरोना वायरस का संबंध वायरस के ऐसे परिवार से है, जिसके संक्रमण से जुकाम से लेकर सांस लेने में तकलीफ जैसी समस्या हो सकती है. इस वायरस को पहले कभी नहीं देखा गया है. इस वायरस का संक्रमण दिसंबर में चीन के वुहान में शुरू हुआ था. डब्लूएचओ के मुताबिक, बुखार, खांसी, सांस लेने में तकलीफ इसके लक्षण हैं. अब तक इस वायरस को फैलने से रोकने वाला कोई टीका नहीं बना है. क्या हैं इस बीमारी के लक्षण? इसके लक्षण फ्लू से मिलते-जुलते हैं. संक्रमण के फलस्वरूप बुखार, जुकाम, सांस लेने में तकलीफ, नाक बहना और गले में खराश जैसी समस्या उत्पन्न होती हैं. यह वायरस एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैलता है. इसलिए इसे लेकर बहुत सावधानी बरती जा रही है. कुछ मामलों में कोरोना वायरस घातक भी हो सकता है. खास तौर पर अधिक उम्र के लोग और जिन्हें पहले से अस्थमा, डायबिटीज़ और हार्ट की बीमारी है. क्या हैं इससे बचाव के उपाय? स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कोरोना वायरस से बचने के लिए दिशानिर्देश जारी किए हैं. इनके मुताबिक, हाथों को साबुन से धोना चाहिए. अल्‍कोहल आधारित हैंड रब का इस्‍तेमाल भी किया जा सकता है. खांसते और छीकते समय नाक और मुंह रूमाल या टिश्‍यू पेपर से ढककर रखें. जिन व्‍यक्तियों में कोल्‍ड और फ्लू के लक्षण हों उनसे दूरी बनाकर रखें. अंडे और मांस के सेवन से बचें. जंगली जानवरों के संपर्क में आने से बचें. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के सात स्टेप्स विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सात आसान स्टेप्स बताए हैं, जिनकी मदद से कोरोना वायरस को फैलने से रोका जा सकता है और खुद भी इसके इंफेक्शन से बचा जा सकता है.

कोरोनावायरस (Coronavirus) कई वायरस (विषाणु) प्रकारों का एक समूह है जो स्तनधारियों और पक्षियों में रोग के कारक होते हैं। यह आरएनए वायरस होते हैं। मानवों में यह श्वास तंत्र संक्रमण के कारण होते हैं, जो अधिकांश रूप से मध्यम गहनता के लेकिन कभी-कभी जानलेवा होते हैं।गाय और सूअर में यह अतिसार और मुर्गियों में यह ऊपरी श्वास तंत्र के रोग के कारण बनते हैं। इनकी रोकथाम के लिए कोई टीका (वैक्सीन) या वायररोधी (antiviral) अभी उपलब्ध नहीं है और उपचार के लिए प्राणी की अपने प्रतिरक्षा प्रणाली पर निर्भर करता है और रोगलक्षणों (जैसे कि निर्जलीकरण या डीहाइड्रेशन, ज्वर, आदि) का उपचार किया जाता है ताकि संक्रमण से लड़ते हुए शरीर की शक्ति बनी रहे।

चीन के वूहान शहर से उत्पन्न होने वाला 2019 नोवेल कोरोनावायरस इसी समूह के वायरसों का एक उदहारण है, जिसका संक्रमण सन् 2019-20 काल में तेज़ी से उभरकर 2019–20 वुहान कोरोना वायरस प्रकोप के रूप में फैलता जा रहा है। हाल ही में WHO ने इसका नाम COVID-19 रखा

2019 नोवेल कोरोनावायरस (2019 novel coronavirus, 2019-nCoV), जो वूहान कोरोनावायरस (Wuhan coronavirus) भी कहलाता है, संक्रमण (रोग) फैलाने वाला कोरोनावायरस प्रकार का एक वायरस (विषाणु) है जो श्वसन तंत्र संक्रमण उत्पन्न करता है और मानव-से-मानव में फैलता है। इसकी पहचान सर्वप्रथम सन् 2019-20 में वूहान, हूबेई, चीन में करी गई थी, जहाँ यह 2019–20 वुहान कोरोना वायरस प्रकोप का कारक था। इसके एक पशुजन्यरोग होने के संकेत हैं कि इसके पहले ज्ञात रोगी वूहान के एक ऐसे बाज़ार से सम्बन्धित थे जहाँ तरह-तरह के प्राणी माँस के लिए बिकते थे। सम्भव है कि यह आरम्भ में चमगादड़ से मानव में फैला हो क्योंकि इस बाज़ार में चमगादड़ भी खाए जाते हैं और इस वायरस का चमगादड़ों में पाए जाने वाले कुछ कोरोनावायरस से अनुवांशिक समानताएँ मिलती हैं।यह भी माना जा रहा है कि यह वायरस पैंगोलिन से मानव में फैला हो।इस वायरस के मानव-से-मानव संचरण की पुष्टि 2019-20 कोरोनोवायरस महामारी के दौरान की गई है। इसका प्रसार मुख्य रूप से लगभग 6 फीट (1.8 मीटर) की सीमा के भीतर खांसी और छींक से बूंदों के माध्यम से होता है। दूषित सतहों के माध्यम से अप्रत्यक्ष संपर्क, संक्रमण का एक और संभावित कारण है।

वुहान कोरोना वायरस प्रकोप (2019–20)  की शुरुआत एक नए किस्म के कोरोनवायरस (2019-nCoV) के संक्रमण के रूप में मध्य चीन के वुहान शहर में 2019 के मध्य दिसंबर में हुई। बहुत से लोगों को बिना किसी कारण निमोनिया होने लगा और यह देखा गया की पीड़ित लोगों में से अधिकतर लोग हुआँन सीफ़ूड मार्केट में मछलियाँ बेचते हैं तथा जीवित पशुओं का भी व्यापर करते हैं। चीनी वैज्ञानिकों ने बाद में कोरोनावायरस की एक नई नस्ल की पहचान की जिसे 2019-nCoV प्रारंभिक पदनाम दिया गया। इस नए वायरस में कम से कम 70 प्रतिशत वही जीनोम अनुक्रम पाए गए जो सार्स-कोरोनावायरस में पाए जाते हैं। संक्रमण का पता लगाने के लिए एक विशिष्ट नैदानिक पीसीआर परीक्षण के विकास के साथ कई मामलों की पुष्टि उन लोगों में हुई जो सीधे बाजार से जुड़े हुए थे और उन लोगों में भी इस वायरस का पता लगा जो सीधे उस मार्केट से नहीं जुड़े हुए थे। अभी स्पष्ट नहीं है कि यह वायरस सार्स जितनी ही गंभीरता या घातकता का है

नोवेल कोरोना वायरस एक संक्रमण से फैलने वाली बीमारी को जन्म देता है इस बीमारी को who ने covid-19 नाम प्रदान किया | उदाहरण के रूप हाथ मिलाने से , खासने , छिकने , विभिन्न प्रकार के जीव – जंतु से दुसरो में फैलता है |

कोरोना वायरस के लक्षण(symptoms of coronavirus) :

कोरोना के संक्रमित को लेकर वैज्ञानिको के मत भेद है कुछ लोगो का मानना है की कोरोना के संक्रमित व्यक्ति में इसके लक्षण पांच दिन में ही दिखने लगते है | तो कुछ लोगो ने ज्यादा माना है | तथा संक्रमित व्यक्ति में कोरोना से प्रभावित व्यक्ति में कोरोना के लक्षण कितने दिन तक देखे जा सकते है जिसको लेकर उन्होंने दो विभिन्न मत दिए है |जिसमे पहले  हवाला में विश्व स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट को शामिल किया गया है  जिसके तहत बताया गया कि  कोरोना से संक्रमित व्यक्ति में इसके लक्षण १४ दिन तक रहते है | दुसरे हवाला के तहत इसमें शोधकर्ताओ को शामिल किया गया जिसमे बताया की कोरोना से संक्रमित व्यक्ति में इसके लक्षण २४ दिन तक दिखते है |

जुकाम

साँस लेने में तकलीफ़

बुखार आना

नाक का बहना

गले में खरास

कोरोना वायरस से निजात पाने  के उपाय(precautions from coronavirus ):

कोरोना वायरस एकदम नया बनाया गया वायरस है जिसके बारे  में जानकारी नही प्राप्त हो पाई फिर इससे बचने के कुछ समान्य से उपाय है कि

खासते एवं छिकते समय रुमाल का प्रयोग करे |

जंगली जानवरों से दुरी बना के रखे |

साफ़ सफाई बरते |

जिन व्यक्तियों में फ्लू के लक्षण दिखे उनसे दुरी बनाये रखे |

विश्व स्वास्थ्य संगठन के द्वारा ७ चरणों जारी किये गए जिनका पालन करके व्यक्ति कोरोना वायरस  से संक्रमित होने से बच सकता है –

अपने हाथ को बार धोते रहे |

अपने आँख , कान , नाक को छूने से बचे

ख़ासते समय रुमाल का इस्तमाल करे |

भीड़ भाड वाले स्थान पर न जाए और न ही  किसी ऐसे व्यक्ति से मेले जिन्हें बुखार अथवा खासी हो

अस्वस्थ्य महसूस करने की स्थिति में घर पर ही रहे |

बुखार अथवा खासी हो अथवा साँस लेने में तकलीफ महसूस हो तो तुरंत चिकित्सक से सलाह ले |

 

सोशल डिस्टन्सिंग बहुत जरुरी कदम हैं । सनीटाइज़शन करना होगा 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *