केवाईसी (KYC) के विवरण में पेशा कोड की महत्ता

दोस्तों ,

यह लेख मूल रूप से मेरे सहपाठी और मित्र अजय वर्मा ने लिखा तथा मुझे भेजा है . अजय वर्मा जी वर्तमान में बैंक ऑफ़ बड़ोदा में कार्यरत हैं .अजय वर्मा प्रारम्भ से ही बड़े कुशाग्र बुद्धि एवं बहु आयामी व्यक्तित्व के धनी हैं  ..आइये इनका लेख पढ़ें और समझे की किस तरह बैंकिंग में कुछ बातों का ध्यान रखें जिससे आपका पैसा सुरक्षित रहे और बैंकर भी आपका पैसा सुरक्षित रख सके ऐसी कार्यप्रणाली विकसित हो

 

केवाईसी (KYC) के विवरण में पेशा कोड की महत्ता एंटी मनी लॉन्ड्रिंग (काले धन को वैध बनाना) के संदर्भ मे

KYC बैंकिंग और फाइनेंस के क्षेत्र में इस्‍तेमाल होने वाला एक प्रचलित टर्म है। बैंक और फाइनेंशियल इंस्‍टीट्यूशंस अपने ग्राहक की पहचान और उसके पते को सत्‍यापित करने के लिए KYC का प्रयोग करते हैं। KYC का मतलब नो योर कस्‍टमर यानी अपने ग्राहक को जानें- होता है।

सरकार ने व्यक्ति की पहचान लिए छ: प्रकार के दस्तावेजों को KYC के लिए प्रमाणित दस्तावेज के तौर पर मान्‍य किया है, जिन्हें व्यक्ति की पहचान का प्रमाण माना गया है।

छ: दस्तावेजों की सूची इस प्रकार है,

1) पासपोर्ट,

2) ड्राइविंग लाइसेंस

3) मतदाता पहचान पत्र

4) पेनकार्ड

5) आधार कार्ड

6) मनरेगा कार्ड

क्‍यों महत्‍वपूर्ण है KYC

बैंको और वित्तीय संस्थाओं के लिए KYC का बहुत महत्व हैं, क्योंकि इस विधि के द्वारा व्यक्ति के आवेदन और उसकी पहचान को सुनिश्चित करते हैं और इस बात को लेकर आश्‍वस्त हो जाते हैं कि जो भी दस्तावेज दिए गए हैं, वे वास्तविक हैं। ऐसे कर्इ प्रकरण हुए हैं, जिसमें धोखाघड़ी और और जालसाजी कर अकाअंट से पैसे निकाल लिए गए। यदि आवेदक की पहचान सुनिश्चित हो जाती हैं, तो जालसाजी की संभावना कम हो जाती है और इसे रोका जा सकता है।

क्‍यों महत्‍वपूर्ण है पेशा कोड  

मेरा व्यतिगत अनुभव है कि खाता खोलते वक़्त ग्राहक इसे अनौपचारिक रूप से कुछ भी भर देते है जो कि सही नहीं लगता है। एक छोटा सा उदाहरण- अगर कोई ग्रामीण शाखा है तो लोग किसान लिख देते है चाहे उनका पेशा कुछ और भी हो और जब ये खाते मे लेन- देन करते है तो इनका लेन देन प्रोफाइल से मिलता नहीं है तो संदेह लगता है। अगर खाता खलते वक्त ही, हम लोग विवरण की जांच ले तो इसका फायदा सभी को होगा।

केवाईसी के विवरण में पेशा कोड बेहद महत्‍वपूर्ण है क्योकि हम लोग, केन्द्रीयकृत लेन-देन निगरानी इकाई प्रधान कार्यालय, इसी आधार पर किसी भी खाते का प्राथमिक लेन-देन का आकलन करते है। खातो की निगरानी के दौरान हमने यह भी देखा है कि कुछ खाते में पेशा का विवरण नहीं है। इसी वजह से मैंने यह सोचा कि इस पत्रिका के माध्यम से आप लोगो से यह बात साझा कर सकु। अत: आप समझ सकते है कि इसका सही विवरण खाता खोलते वक़्त भरना कितना महत्‍वपूर्ण है।

 

           अजय कुमार वर्मा

Announcement List

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *