Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

सही समय पर लिया गया फैसला ही सही होता है।

Making a decision

making a decision

दोस्तों ,चुटकुले भी सिखाते हैं ये हम पे है की हम उनसे क्या सीखते हैं एक ऐसा ही किस्सा आज कही पढ़ा….. ये रहा नीचे ..पहले किस्से को पढ़िए और सोचिये क्या सीखा आपने ..पोस्ट के नीचे कमेंट बॉक्स में अवश्य लिखें …

एक लड़की अपने अपार्टमेंट के तेइसवएँ माले ( मंजिल ) से गिर गई। इत्तेफाक से बीसवें माले पर एक युवक बॉलकनी में खड़ा था। उसने लड़की को पकड़ लिया और पूछा, “क्या तुम मुझसे शादी करोगी?”
लड़की ने लड़के की ओर घूर कर देखा और कहा, “शटअप!”
युवक ने लड़की का हाथ छोड़ दिया।
अब वो फिर नीचे गिरने लगी। सोलहवें माले पर एक और नौजवान खड़ा था। उसने उसे गिरते हुए देखा तो उसका हाथ पकड़ लिया।
उसने भी पूछा, “क्या तुम मेरे साथ जीवन गुज़ारना पसंद करोगी?
लड़की बिफर पड़ी।
नौजवान ने उसका हाथ छोड़ दिया।
अब वो फिर गिरने लगी।
इत्तेफाक से बारहवें माले पर भी एक नौजवान खड़ा था। उसका हाथ उसके हाथ में आ गया।
अब लड़की ने नौजवान की ओर देखा और ज़ोर से चिल्लाई, “हां, हां, मैं तुमसे शादी करूंगी।“
नौजवान ने उसकी ओर देखा और बुदबुदाया, “अज़ीब है। एक तो मैं इसे बचा रहा हूं और ये गले पड़ने की फिराक में है।” उसने उसका हाथ छोड़ दिया।

 

पहली बात तो ये कि ज़िंदगी बार-बार मौका नहीं देती। दूसरी बात ये कि अगर फैसला लेना ही हो, तो सही समय पर लिया गया फैसला ही सही होता है।

ऐसे चुटकुले आम तौर पर हंसने के लिए बनाए जाते हैं। हंसाने के लिए दोस्तों के पास भेजे जाते हैं। पर मैं बहुत देर तक सोच में डूबा रहा। कई बार हम समय पर फैसला लेने से चूक जाते हैं। कई बार हम भ्रम में भी फैसला लेने से चूक जाते हैं। यह एक सच्चाई है कि ज़िंदगी सभी को मौका देती है, लेकिन हम मौका चूक जाते हैं। और समय बीत जाने के बाद हम वही फैसला लेते हैं, तो हमारा फैसला गलत साबित हो जाता है।

making a decision

making a decision is a tough job ?
देवदास भी दुविधा में घिरा एक नौजवान था। वो पारो को पसंद करता था। पारो अपना घर छोड़ कर उसके पास चली आई। पर उसने उससे शादी नहीं की। वो सही वक्त पर फैसला नहीं ले पाया। फिर उसे चंद्रमुखी मिली। चंद्रमुखी ने भी उससे शादी करने का अनुरोध किया, पर देवदास दुविधा में घिर गया। अब उसे पारो की याद सताने लगी। पर तब तक पारो किसी और की हो चुकी थी। उसकी याद में तड़पता देवदास उसके घर के बाहर पहुंच गया। वहीं एक पेड़ के नीचे पारो-पारो करता हुआ वो दुनिया को अलविदा कह गया।

 

जिंदगी में दिए गए अवसरों का लाभ उठाइये और बिंदास सक्सेस की तरफ बढ़ते रहिये

Announcement List

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *