नीरव मोदी ने कैसे किया पी एन बी में महा घोटाला

PNB 11500 crore scam

दोस्तों, पंजाब नेशनल बैंक में 11500 करोड़ का नया घोटाला उजागर हुआ है यह घोटाला देश के बड़े बैंक में हुआ और दोषियों के साथ मिलकर बैंक कर्मियों की मिली भगत से ऐसा होना संभव हुआ है यहाँ प्रश्न यह है की देश के बैंक हमारे लिए हमारे पैसों के लिए कितने सुरक्षित हैं आइये पहले जानते हैं यह घोटाला क्या है और किन लोगों ने किया है

-पूरा मामला 2011 से शुरू हुआ

-1 जनवरी 2018 को नीरव मोदी ने देश छोड़ा

-1 जनवरी को मोदी के भाई बेल्जियन नागरिक निशाल ने देश छोड़ा

-6 जनवरी को नीरव मोदी की पत्नी एमी ने देश छोड़ दिया

-23 जनवरी को नीरव मोदी दावोस में वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम में शामिल हुआ

PNB घोटाले का आरोपी नीरव मोदी आखिर कौन है?

-25 जनवरी को पंजाब नेशनल बैंक को घोटाले का पता चला

-29 जनवरी को पीएनबी ने CBI ने FIR दर्ज करवाई

– 31 जनवरी को नीरव मोदी के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी

-14 फरवरी को पीएनबी ने बीएसई को 11,500 करोड़ के घोटाले की जानकारी दी

-15 फरवरी को पीएनबी ने कॉन्फ्रैंस कर कहा बैंक की देनदारी चुकाएंगे

बैकिंग सिस्टम के इस बड़े fraud में नीरव मोदी और उनकी कंपनी ने PNB से लेटर ऑफ अंडरटेकिंग लिया। ये एलओयू बैंक के 2 कर्मचारियों ने फर्जी तरीके से जारी किया। इसकी जानकारी बैंक के कोर बैकिंग सिस्टम में नहीं डाली गई। ये Letter of undertaking नीरव मोदी और उसके चाचा मेहुल चौकसी की कंपनी के आधार पर दिया गया था। ये एक तरह का Credit note था। इस लेटर को आधार बनाकर नीरव मोदी ने 30 बैंकों से पैसा 11500 करोड़ रुपए कर्ज लिया। ये फ्रॉड पीएनबी की मुंबई की ब्रेडी हाउस ब्रांच में चल रहा था।

PNB के मुताबिक दूसरी बैंकों ने भी रिजर्व बैंक के नियमों का उल्लघंन किया है।

– मामले का पता चलने के बाद PNB ने सबसे पहले जांच एजेंसियों को बताया

– जो भी लेंडर्स हैं उनको जानकारी और एडवायजरी दी है

– क्लीन Banking के लिए कदम उठा रहे हैं

– इस system को ठीक करेंगे

– बैंक के पास इस समस्या से निपटने की क्षमता

– ये गंभीर मामला है हम जांच एजेंसियों की जांच में बाधा नहीं बनना चाहते इसलिए सामने आने में देरी की

– बैंक के Staff को भी शिकायत का हिस्सा बनाया है

– सुपरवाइजरी स्टॉफ को भी सस्पेंड किया है

– सभी बैंकों के कमिटमेंट को ऑनर करेंगे

– जांच एजेंसियों की जांच के बाद कदम उठाएंगे

– जो भी हमारा रेगुलेटर कहेगा वो हम करेंगे

 

सीबीआई के मुताबिक सीबीआई तक पहली शिकायत पहुंचने से बहुत पहले, इस वर्ष एक जनवरी को ही नीरव मोदी देश छोड़कर जा चुका है। सीबीआई ने 31 जनवरी को पहली प्राथमिकी दर्ज करने के बाद नीरव मोदी के खिलाफ लुक आऊट सर्कुलर जारी किया। पीएनबी ने 280 करोड़ रुपए के फ्रॉड केस में पहली बार 29 जनवरी को FIR दर्ज करवाई थी। मोदी का भाई निशाल जो कि बेल्जियन नागरिक है वो भी 1 जनवरी को देश छोड़ चुका है। अधिकारी के मुताबिक नीरव मोदी की पत्नी एमी जो कि एक अमेरिकी नागरिक है वो भी 6 जनवरी को भारत छोड़कर जा चुकी है गीतांजलि ज्वैलरी में बिजनेस पार्टनर भी है। सीबीआई ने लुकआउट नोटिस जारी किया है। रिपोर्ट्स के मुताबिक मोदी स्विटजरलैंड में है। 23 जनवरी को मोदी वर्ल्ड इकोनॉमिक फोरम की बैठक में शामिल हुआ था। नीरव मोदी भारतीय नागरिक है।

-नीरव मोदी ने कहा कि कर्ज चुकाने के लिए तैयार

-नीरव मोदी को पैसे चुकाने का प्लान बनाकर देने के लिए कहा

पीएनबी महाघोटाले में लिप्त नीरव मोदी ने पैसे लौटाने के लिए 6 महीने का समय मांगा है। वहीं वो 6400 करोड़ रुपये फायर स्टार डायमंड्स के रूप में ये पैसे लौटाएंगे। वहीं इससे पहले पंजाब नेशनल बैंक की मुंबई में स्थित एक ब्रांच में गुरुवार को बड़ी कार्रवाई हुई है।

इस मामले में अरबपति ज्वैलरी डिजाइनर नीरव मोदी के खिलाफ एपआईआर दर्ज हो गई है। वही ED ने देश में 10 से 12 जगहों पर छापेमारी भी की है। साथ ही ED द्वारा  शोरूम और घर में भी छापेमारी की गई थी

जिसमे लगभग 5100 करोड़ के हीरे और अन्य सम्पत्तिया सोना इत्यादि जब्त किया गया है….

11500 करोड़ एक बहुत बड़ी धनराशि होती है और यह पैसा हमारा और आपका ही है जो इन बैंको में आपके और मेरे द्वारा जमा किया गया है यह वापस कैसे आएगा अभी यह बताने में सिस्टम को वक़्त लगेगा
PNB scam 2018 हो चूका है और इतिहास का हिस्सा बन चूका है …माल्या 9500 करोड़ के बाद ये दोनों 11500 करोड़ ले के फरार हो चुके हैं इसमें कोई संदेह नहीं है…..

Santosh Pandey

Announcement List

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: