जीवन की समस्याएं एवं प्रोफेसर का गिलास

Problems of life and the professor’s glass

(जीवन की समस्याएं एवं प्रोफेसर का गिलास)

दोस्तों, आज की कहानी है जीवन में रोज  आने वाली नयी नयी चुनौतियों की नए नए प्रोब्लेम्स   Problems of life की… ये कहानी एक ऐसे प्रोफेसर की है जो अपनी क्लास की शुरूआत अपने हाथ में एक ग्लॉस लिये करते है। जिसमें आधा पानी भरा रहता है। वे ग्लॉस को थोड़ा ऊपर करते है ताकि सभी उसे अच्छी तरह देख सके। उसके बाद वह students  से पूछते है – ‘आप लोगों के हिसाब से इस ग्लॉस का वज़न कितना होगा?’

’25gms’ , ‘50gms’ , ‘100gms’  – लगभग सभी विद्यार्थियों  ने अलग-अलग उत्तर दिया।

प्रोफेसर  बोले ‘वास्तव में, मैं इसका सही वज़न तब तक नहीं बता सकता जब तक कि मैं इसका वजन न कर लूं।’

‘लेकिन, मेरा प्रश्न यह है कि “क्या होगा, अगर मैं इसे इसी तरह कुछ मिनटों के लिए, ऊपर उठाए रखूं?”

–  student  ने कहा ‘कुछ नहीं’ ।

– प्रोफेसर ने कहा ‘ठीक है, क्या होगा अगर मैं इसे इसी तरह 2 घंटे के लिए पकड़े रखूं?’

‘आपके हाथ में दर्द शुरू हो जाएगा’ – एक विद्यार्थी ने कहा

प्रोफेसर ने कहा  ‘तुम बिल्कुल सही हो, अब बताओ, क्या होगा अगर मैं इसे इसी तरह एक दिन तक पकड़े रखूं?’

एक दूसरे लड़के ने थोड़े मस्ती भरे अंदाज में कहा।

‘हो सकता है…आपका यह हाथ सुन्न हो जाए। हाथ की मांसपेशियों में strain  उत्पन्न हो जाए और आपका हाथ paralyse  हो जाए फिर अंत में आपको अस्पताल में admit करना पड़े!’ इस पर सभी छात्र हँसने लगे।

यह पढ़े Motivational story

प्रोफेसर ने पूछा-‘बहुत अच्छा, लेकिन क्या इन सबके दरम्यान इस ग्लॉस का वज़न कम हो गया?’ –

एक साथ सभी का उत्तर था  ‘नहीं’ – ।

प्रोफेसर ने कहा  ‘तब बाजू में दर्द और muscles strain  के क्या कारण थे?’ –

Students उलझन में पड़ गए।

प्रोफेसर ने दुबारा पूछा  ‘तो अब मुझे दर्द से राहत पाने के लिए क्या करना चाहिए?’ –

उनमे से एक विद्यार्थी ने कहा ‘ग्लॉस को नीचे रख दीजिए – PUT THE GLASS DOWN!’ –

प्रोफेसर ने खुश होते हुए कहा  ‘बिल्कुल’ …जीवन की समस्याएं भी कुछ इसी ही तरह की हैं। कुछ मिनटों के लिए उन्हें दिमाग में रखिए, तब तक तो ठीक है। कुछ घंटों तक उनके बारे में सोचते रहिए, तो वे दर्द देना शुरू कर देगीं।

लेकिन अगर आप कुछ दिनो तक उनके बारे में सोचते रहिए तो वे आपको लकवे से ग्रस्त कर देगीं। उसके बाद आप कुछ भी करने योग्य नहीं रहेंगे  ।

दोस्तों, ये महत्वपूर्ण  है कि आप अपने जीवन की चुनौतियों (Problems of life )और समस्याओं के बारे में सोचे लेकिन उससे भी जरूरी बात यह है कि प्रतिदिन दिन के अंत में सोने जाने से पहले उन्हें नीचे रख दे, मतलब आप उनके बारे कुछ न सोचे। इस तरह आप अपने आप को तनाव मुक्त महसूस करगें और हर नई सुबह फिर नये CHALLENGE  और ISSUES का मजबूती से मुकाबला कर पाएंगे।

तो दोस्तों ये कहानी सिर्फ कहानी नहीं है इनसे हमको कुछ न कुछ सीखना चाहिए और फिर जीवन में अमल भी करना चाहिए ..ऐसी ही कहानियां पढ़ने के लिए विजिट करते रहिये …..शेयर करें अपने फेसबुक ,ट्विटर ,व्हाट्सप्प पर …जिम्मेदार नागरिक बनिए एन्जॉय योर सक्सेस

Santosh Pandey

Announcement List

2 thoughts on “जीवन की समस्याएं एवं प्रोफेसर का गिलास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: