Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

स्वच्छ भारत ऐसा जैसा अमेरिका सीरीज -3 कैसे होती है कॉलोनी की सफाई ?

स्वच्छ भारत ऐसा जैसा अमेरिका सीरीज -2 बदलाव आपको लाना है !  

आशा हैं ये पिछला पोस्ट आपने पढ़ा होगा .

दोस्तों , अमेरिका जैसा देश क्यूँ हमे बनना चाहिए इसके पीछे हमे जानना चाहिए कारण..तो आइये इस पोस्ट में इसी बात पर चर्चा करते हैं .
जैसा की आप जानते हैं हमारे देश के बहुत से युवा हजारों की संख्या में हर साल अमेरिका जा कर बस जाते है क्यूंकि वहां वे पैसा और सहूलियत दोनों कमा सकते हैं ,हर साल इतने ही उद्यमी अमरीका चले जाते हैं क्यूंकि वहां की व्यवस्था से वो प्रभावित हैं ..क्यों न हम भी अमरीका चले जाये या अमेरिका यहीं लाने का प्रयास करें ..वो हो सकता है जब हम चाहें हमारी व्यवस्था चाहे ….अगले पोस्ट में इस की चर्चा करेंगे ..अभी मूल विषय पर आते हैं

स्वच्छ भारत ऐसा जैसा अमेरिका सीरीज -3 कैसे होती है कॉलोनी की सफाई ?

दोस्त ,कॉलोनी में दो या चार लोग कार से उतरते हैं अपनी ड्रेस पहनते हैं .उनके हाथ में कुछ उपकरण होते हैं उनमे से हर एक के पास बैटरी चलित ब्लोअर होता हैं जिससे वो पहले पेड़ों के नीचे पड़े पत्तों को ब्लोअर की सहायता से इकट्ठा करने लगते हैं …जी हां दोस्तों सड़क पर सिर्फ पत्ते दीखते हैं क्यूंकि हर आदमी अपने घरों में ही अति आधुनिक तरीके से कूड़ा अपने बेसमेंट में इकट्ठा करता हैं या जो बेसमेंट या गैराज में बड़े प्लास्टिक के बास्केट में स्वयं इकठ्ठा होता हैं .
पत्ते एक जगह पर जब इकट्ठा हो जाता हैं तब कूड़ा उठाने वाली गाड़ी आती हैं और एक खास जगह सब कूड़े को ले जाती हैं जहाँ खाद बनाया जाता हैं जो बाद में किसानो को उपलब्ध कराया जाता हैं

घरों के कूड़े अलग गाड़ी में रीसायकल होने चले जाते हैं .कर्मचारी वापस अपने कार्य खत्म होने पर चले जाते हैं
(हमारे यहाँ गली के कूड़े को एक एक मीटर और कोने कोने इकठा करके सफाई वाला माचिस से जला देता हैं हा हा हा)

हर घर के आगे लॉन छोड़ा जाता हैं जिसमे लगी घास को मकान मालिक को करीने से काट या कटवा के रखना पड़ता हैं अन्यथा घर में नोटिस आ जाता हैं सोसाइटी से ..यदि मकान मालिक घास नहीं कटवाता तो सोसाइटी घास को कटवा कर बिल मकान मालिक के घर छोड़ दिया जाता हैं …ये क्या ऐसे मुश्किल तरीके हैं जो हम अपना नहीं सकते ????

जब नागरिक इस तरह के होंगे तभी ऐसा पॉसिबल हैं ..तो क्या हम बदल नहीं सकते ??
जब हम अमरीका जातें हैं तब वहां के नियमो का पालन करना पड़ता हैं और हम भी वहां की तरह ढल जाते हैं फिर यहाँ करने में क्या परेशानी हैं ?
क्या सरकारें ऐसा करने में कुछ कर सकती हैं ? हम सारा दोष सरकार को नहीं दे सकते परन्तु हम खुद बदलना शुरू कर सकते हैं
इस पोस्ट में आपने पढ़ा की अमेरिका में सफाई किस तरह और किस जज्बे से की जाती हैं तो आइये हम भी अपना देश अमेरिका जैसा बनाये …
अगले पोस्ट में अगला भाग जरूर पढ़े और शेयर करें ताकि ये बदलाव हम जीते जी देख सकें …

Santosh Pandey

Announcement List

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *