छोटे की शक्ति

दोस्तों, सर्दियाँ शुरू हो चुकी हैं , आपने सर्दियों के ब्रेक पर एक असाधारण छुट्टी लेने का फैसला किया है लेकिन बस यात्रा करना तय करना वास्तव में इसे अद्भुत बनाने के लिए पर्याप्त नहीं है इस अद्धभुत यात्रा  के लिए, इसमें छोटे निर्णयों का एक गुच्छा शामिल होता है:

आप सही गंतव्य पर कैसे तय करते हैं?

आपको कब यात्रा करनी चाहिए?

कहाँ रहा जाए?

क्या आप को रोमांच और भ्रमण कोशिश करनी चाहिए?

यह बताने के लिए आइये कि यह प्रक्रिया कैसे काम करती है   हेनरी फोर्ड के कार व्यवसाय का उदाहरण लें

अधिकांश लोगों का मानना ​​है कि फोर्ड के मॉडल को  Model T बनाने का निर्णय उनकी सफलता में लिंच पिन (सबसे अधिक महत्वपूर्ण निर्णय) है। हालांकि, हम  देखने में नाकाम होते हैं, वे सभी छोटे निर्णय एकत्र किए जाते हैं जो बड़े परिणाम उत्पन्न करते हैं।

यहां छोटे और महत्वपूर्ण फैसले दिए गए हैं जो फोर्ड ने ऐसा किया जो कि मॉडल टी की सफलता का निर्माण किया।

• उन्होंने कार्य के मानक समय को ९ घंटे से ८ घंटे कर दिया यानि १ घंटा कम

• उन्होंने मजदूरों के वेतन में दोगुना किया

ये दो फैसले अकेले कर्मचारी कारोबार (Employee Turnover)  को 370% से घटाकर 16% कर देते हैं और भले ही वह एक घंटे  कार्यदिवस कम हो गया किन्तु प्रोडक्टिविटी  40 प्रतिशत से बढ़कर 70 प्रतिशत हो गया।

Employee Moral पर ध्यान केंद्रित करने और अपने कर्मचारियों के जीवन में सुधार  करने के उनके फैसले ने उन्हें दुनिया की सबसे बड़ी ऑटोमोबाइल निर्माता और एक अरबपति बना दिया।

इसके बाद उन्होंने मॉडल टी की कीमत कम कर दी थी, जिसमें नौ साल की अवधि में 800 डॉलर से 350 डॉलर की कमी आई थी।

ये सभी कार्य, प्रतिदिन काम किए गए घंटे की मात्रा को कम करते हैं, अपने वेतन को दोहरीकरण करते हैं और कार के खुदरा मूल्य को कम करते दिखते हैं और उन्हें धन खोना चाहिए था। लेकिन कुछ छोटे फैसलों से वास्तव में मामला बड़े पैमाने पर उत्पादन के एक समग्र निर्णय के परिणामस्वरूप एक शानदार सफलता हासिल करता है।

क्या हम स्वाभाविक रूप से सोचते हैं कि बड़ा बेहतर नहीं है?

शोध से पता चलता है कि मानव मस्तिष्क दक्षता के लिए कठोर वायर्ड है।

यह हर चीज को करने के लिए सबसे कुशल और ऊर्जा बचत विधि तलाशने और पाता है। तो यदि संभव हो तो, हमारा मस्तिष्क केवल एक बड़ा निर्णय करना चाहता है जो एक बार और हमेशा के लिए फायदेमंद होगा।

ईमानदारी से, आप इस प्रक्रिया को समझने और समझने में असमर्थ हैं, हमारे मस्तिष्क में सबसे छोटी कार्य करने के लिए प्रयासरत है। आप केवल बड़े कार्यों और प्रक्रियाओं के बारे में जानते हैं, जो आपके दिमाग में हर दूसरे दौर से गुजरने वाले लाखों छोटे फैसले हैं।

यही बातें हमे बताती हैं की स्माल यानी “छोटे” में कितनी पावर है आइये अपनी सफलता में हम इस “छोटे ” की कीमत जाने और इसका फायदा उठाकर सफलता की ओर एक कदम और बढ़ें .
तो कैसा लगा दोस्तों यह लेख अवश्य कमेंट बॉक्स में लिखें

www.santoshpandey.in

Get Success and Enjoy

Announcement List
Merry Christmas Friends......!

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *