लक्ष्य महत्वपूर्ण क्यों हैं?

दोस्तों ,

क्या आप जानते हैं की  Goal लक्ष्य क्यों जरुरी होता है क्यों हमे एक Goal सेट करना चाहिए ..क्यों हमे स्पष्ट Goal का निर्माण प्रथम चलने से पहले करना चाहिए

आज हम जानेंगे की हम सभी को सफल होने के लिए लक्ष्य की आवश्यकता क्यों पड़ती है ..क्यों हम बिना  लक्ष्य के भटक जायेंगे .एक उदाहरण  देखते हैं

एक बार एक यात्री एक चौराहे पर  सड़क के किनारे रुका और दूसरे व्यक्ति से उसने पूछा -यह सड़क मुझे कहाँ ले जाएगी , दूसरे व्यक्ति ने जवाब दिया -तुम कहाँ जाना चाहते हो , यात्री ने कहा ‘मैं  नहीं जानता”  व्यक्ति ने कहा “कोई भी सड़क पकड़ लो वो वही ले जाएगी ”

बात उसकी बिलकुल सही थी जब उसे पता ही नहीं था की उसे जाना कहाँ है तो कोई भी सड़क उसे वहां ले जाएगी ..

माना की एक फ़ुटबाल टीम खेलने को तैयार है तभी मैदान से गोल पोस्ट और गोल लाइन किसी ने हटा दिया …आप सोचिये तब क्या होगा क्या कोई स्कोर हो पायेगा ..क्या आप जान पाएंगे की कौन सी टीम लक्ष्य तक पहुंची ….नहीं

सही सोच रहे हैं आप लक्ष्य एक दिशा का बोध कराती है हमे कहाँ जाना है हमे सिर्फ लक्ष्य के माध्यम से ही पता चलता है

Goal

क्या आप किसी ऐसी बस या गाडी में बैठेंगे जिसके बारे में आप नहीं जानते हो की वह कहाँ जाएगी …बिलकुल नहीं आप कतई नहीं बैठना चाहेंगे यदि बैठ भी गए तो तत्काल उतर जाएंगे यदि आप पुरे होश  में हो तो …

तो आपसे मैं पूछंना चाहूंगा की जब जिंदगी का सफर हो तो बिना स्टेशन या लक्ष्य के क्यों तैयार हो जायेंगे आप चलने के  लिए ….आपको फोकस करना पड़ेगा ..याद रखिये बिना फोकस बिना लक्ष्य के आप हरगिज सफलता प्राप्त नहीं कर सकते …..”लक्ष्य  वो सपने हैं जिनके साथ समय सीमा और कार्य योजना जुडी होती है” शिव खेड़ा

कहते हैं की

निश्चित और साफ़ लक्ष्य  लिखें .

इसे हासिल करने का प्लान बनायें

पहली दो बातों को रोज दुहराएँ

दोस्तों ,आप के लिए बिलकुल मुफ्त का ज्ञान है अगर अपना सकते हैं तो बिलकुल तैयार हो जाइये अपने लक्ष्य को पाने के लिए ..

क्या आप जानते हैं की सबसे बड़ा आपका दुश्मन कौन है ?

नहीं तो जान लीजिये आपका सबसे बड़ा दुश्मन कोई और नहीं स्वयं आप हैं …जब सुबह आप आपसे आपका मन कहता है की हे दोस्त उठ जाओ ..तो आप उसे टाल देते हैं अभी नहीं बाद में ….जब आपका मन कहता है दोस्त चलो सुबह कसरत करलें तो आप कहते हैं अभी नहीं कल से कर लेंगे ….जब आपका मन कहता हैं दोस्त कुछ नहीं तो जरा बाहर निकल कर टहल लें तो फिर आप उसको टाल देते हैं …मेरे साथ ऐसा रोज होता है आपके साथ भी ऐसा ही होता होगा ….लेकिन मैं उसको अब टालता नहीं हूँ और आप अभी भी उसके टालते हैं …..है न ????

तो आइये कम से कम ये छोटा और पहला लक्ष्य मिलकर बनायें ….मुझे कमेंट बॉक्स में आप रोज लिखें क्या आप ने ये अपना पहला लक्ष्य (Goal) बना लिया है ??

google www.santoshpandey.in

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *