Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!

आप बहुमूल्य हैं

“आप अपना मूल्य समझे और विश्वास करें की आप संसार के सबसे बहुमूल्य व्यक्ति हैं ” ये लाइन अक्सर मेरे पिता जब वह गायत्री परिवार से जुड़े थे तबसे यहाँ वहां विभिन्न स्थानो पर ,पन्नो और दीवारों पर लिखा करते थे जिससे लोग उन्हें पढ़ें और जीवन में उनके अर्थ उतार सकें…

…. और भी बहुत बहुमल्य लाइनें उन दीवारों पर मैंने लिखते देखा था आज यह लाइन यूँही बरबस याद आ गयी ,इसी विचारों का मंथन करते हुए एक कहानी भी याद आ रही है सोचा आपने तो बहुत बार पढ़ी होगी फिर भी आपको याद दिलाता चलूँ ….दोस्तों, आज की कहानी है
एक जाने माने वक्ता की जो अपने हाथों में 2000 रू. का नोट लिए सेमिनार हॉल में प्रवेश करते है। उस सेमिनार हॉल में लगभग 500 लोग बैठे हुए थे। उन्होंने 2000 रू का नोट सभी को दिखाते हुए पुछा – ‘कौन-कौन इस 2000 रू. के नोट को लेने की इच्छा रखता है?’

हॉल में मौजूद लोगों के हाथ धीरे-धीरे उठने लगे।

उन्होंने कहा, ‘मैं आप ही लोगों में से किसी एक को यह 2000 रू. का नोट देने वाला हूं, लेकिन पहले आप मुझे ये कर लेने दीजिए’ यह कहकर उन्होंने नोट को मोड़-तरोड़ दिया।सके बाद उन्होंने पूछा – ‘इसे अब भी कौन लेना चाहता है?’ अभी भी लगभग सारे हाथ ऊपर थे। ‘ठीक है’ उन्होंने कहा। ‘क्या होगा अगर मैं ये करूं?’ ये कहकर उन्होंने 2000 रू. के नोट को फर्श पर गिरा दिया और उसे अपने जूते से रगड़ने लगे।

कुछ देर बाद उन्होंने उसे दुबारा हाथ में लिया, लेकिन अब वह नोट बुरी तरह गंदा हो गया था। फिर उन्होंने लोगों से पूछा – ‘इसे अब भी कौन लेना चाहता है?’ इस बार भी लगभग सभी लोगों के हाथ ऊपर थे!

इस कहानी से आज आप सभी ने बहुत ही बहुमूल्य चीज सीखा। इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मैंने इस नोट के साथ क्या किया। आप इसे अब भी लेना चाहते है, क्योंकि इससे अब भी इसका मूल्य घटा नहीं है। यह अब भी 2000 रू ही है।

यही चीज हम सभी के साथ होती है। हम कई बार अपने जीवन में गिरते हैं, कठिनाईयों से लड़ते-लड़ते थक जाते है। अपने गलत निर्णयों से भारी मुसीबतों का सामना करते है। इन सारी परिस्थितियों से जूझ कर हम अपने आपको मूल्यहीन और बेकार समझने लगते है लेकिन इसका कोई अर्थ नहीं है कि हमारे जीवन में क्या हो चुका है और भविष्य में क्या होगा, आप अपना महत्व कभी नहीं खो सकते। आप बहुमूल्य थे बहुमूल्य हैं और बहुमूल्य रहेंगे …आप विश्वास कीजिये यह कथन यूँही नहीं कहा गया है
“आप अपना मूल्य समझे और विश्वास करें की आप संसार के सबसे बहुमूल्य व्यक्ति हैं “

Santosh Pandey

Announcement List

2 thoughts on “आप बहुमूल्य हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *